chessbase india logo

शतरंज निर्णायक राजकुमार का दुःखद निधन - शतरंज जगत नें बढ़ाए मदद के हाथ,आप भी करे सहयोग

by Niklesh Jain - 26/10/2019

शुक्रवार शाम दिल्ली में हुए एक हादसे में अंतर्राष्ट्रीय निर्णायक राजकुमार के असामयिक निधन से शतरंज जगत स्तब्ध है ,दिल्ली शतरंज संघ के लिए तो यह अपूर्णीय क्षति है ,42 वर्ष की उम्र में ज़िंदादिल स्वभाव के राजकुमार शतरंज के लिए समर्पित व्यक्ति थे करीब 15 वर्ष पहले धनबाद ,झारखंड  से दिल्ली में आकर बसे राजकुमार नें दिल्ली शतरंज संघ के नियमित सदस्य के तौर पर कई बड़े टूर्नामेंट में अपना सहयोग देना शुरू कर दिया साथ ही कई विद्यालयों में उन्होने शतरंज सिखाना आरंभ किया । अपनी मेहनत से 2011 में फीडे आर्बिटर बने तो 2013 में उन्होने इंटरनेशनल आर्बिटर बन गए । राज कुमार अपने पीछे  परिवार में उनकी धर्मपत्नी और दो बालिका छोड़ गए है ।  परिवार में  जीविका चलाने वाले वह अकेले व्यक्ति थे ऐसे में उनके परिवार के उपर ना सिर्फ दुःखो का पहाड़ टूटा है बल्कि एक बड़ा आर्थिक संकट भी खड़ा हो  गया है । दुख की इस घड़ी में दिल्ली शतरंज संघ परिवार समेत सभी भारत के शतरंज खिलाड़ी मदद के लिए सामने आ रहे है । आप भी इसमें अपना सहयोग दिल्ली शतरंज संघ के द्वारा कर सकते है पढे यह लेख ।

अपनी इस असामयिक मृत्यु के पहले तक शतरंज को अपना जीवन देकर इस खेल के विकास में राज कुमार नें अपना एक अमूल्य योगदान दिया। विद्युत विभाग के लापरवाही का शिकार होकर उन्हे अपने प्राण गवाना पड़े । चेसबेस इंडिया परिवार उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता है और परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करता है 

दिल्ली ओपन के 12 वे संस्करण में राजकुमार( लाल रंग के गोले में ) दिल्ली शतरंज परिवार के साथ 

एक निर्णायक के तौर पर उन्होने खेल के विकास में अपना बड़ा योगदान दिया 


दिल्ली शतरंज संघ उनके परिवार की मदद के लिए एक प्रयास कर रहा है आप भी इसमें शामिल हो सकते है 

 

दिल्ली चेस एसोसिएसन के बैंक अकाउंट के जरिये आप अपनी सहयोग राशि जमा करा सकते है । जल्द ही दिल्ली शतरंज संघ उनके नाम पर एक फीडे रेटिंग प्रतियोगिता का आयोजन भी करने जा रहा है